Khaas Umeedein Toh Nahin Thi Rail Budget Ko Lekar..

आज का कुविचार:-
ख़ास उम्मीदें तो नहीं थी मेरी रेल बजट को लेकर। लेकिन एक ख्वाहिश थी
“शौचालय में गलत नंबर लिखने वालों को 2 साल सश्रम कारावास की सजा का प्रावधान जरूर हो” ।

Categories: Hindi Jokes