Nazar aaj bhi us ko dhoondh (One liner)

नज़रे आज भी उस हरामखोर को ढूँढ रही हैं, जिसने कहा था बुक के बीच में मोर पंख रखने से विद्या आती है.